गया। गया प्रवास के दौरान केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने केंद्र सरकार व राज्य सरकार की योजनाओं समीक्षा की। उस दौरान गया परिसदन (सर्किट हाउस) के सभागार में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट को लेकर नगर निगम के मेयर वीरेन्द्र कुमार, डिप्टी मेयर अखौरी ओंकार नाथ उर्फ मोहन श्रीवास्तव व नगर आयुक्त सावन कुमार सहित आलाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। समीक्षा बैठक के दौरान केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने कहा कि देश के विश्व मानचित्र व पर्यटन के दृष्टिकोण से गया और बोधगया की पहचान है।

मुझे ऐसा लगता है पर्यावरण, जलवायु व प्रदूषण के दृष्टिकोण से यह शहर को और बेहतर बनाने की आवश्यकता है। मैंने आज विशेष तौर पर नगर का अवशिष्ट प्रबंधन कैसे होता है। यानी सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट का विशेष रूप से जानना चाहा। फिर मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट के बारे जानकारी प्राप्त की और संक्षिप्त में समीक्षा किया। उन्होंने कहा कचरा निष्पादन के लिए गया नगर निगम ने अच्छी व्यवस्था स्थापित किया है। सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट पर बेहतर योजना बनाकर बिहार में अच्छा यूनिट स्थापित किया। जिसका जल्द उद्धघाटन भी किया जाएगा। कचरे का निष्पादन से शहरवासियों को अच्छा ऑक्सीजन मिलेगा और प्रदूषण मुक्त शहर बने।

वहीं डिप्टी मेयर मोहन श्रीवास्तव ने बताया कि आज केंद्रीय राज्य मंत्री के साथ निगम के जुड़े योजना प्रगति पर समीक्षा की गई है। खासकर के गया नगर निगम अवशिष्ट प्रबंधन यानी सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट कैसे काम कर रहा, उन्हें अवगत कराया गया। उन्हें समीक्षा के दौरान बताया गया नगर निगम ने कचरा निष्पादन के लिए यूनिट स्थापित किया गया है। इसके कचरे का सही उठाव हो इसके लिए घर के बाहर क्यूआर कार्ड लगाने की योजना पर काम चल रहा है। इसके आलवा उन्होंने बताया कि मेरे हुए जानवर का क्रिमिशन किया जाएगा। इसके लिए एक माह के अंदर क्रिमिशन मशीन लग जाएगा। प्रदूषण नियंत्रण को निगम के पास दो स्प्रिंकलर मशीन है। वहीं सीएनडी को लेकर बताया गया कि जो मकान के टूटे मलवा का डिस्पोजल किया जा सके और उससे पेभर ब्लॉक बनाया जा सके। इस योजना को लेकर केंद्रीय राज्य मंत्री जी से दस करोड़ रुपए की राशि की मांग की गई है। समीक्षा के दौरान केंद्रीय मंत्री ने निगम कार्यों को काफी सराहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *