टॉर्च जलाकर प्रभारी कुलपति एवं विश्वविद्यालय के प्रभारी पदाधिकारियों को खोजने निकले अभाविप के कार्यकर्ता, मगध विश्वविद्यालय के सभी विभागों एवं अधिकारियों से पूछा-आपने VC सर को कहीं देखा है?

अखिल भारतीय विधार्थी परिषद के मगध विश्वविद्यालय संयोजक सूरज सिंह ने कहां कि मगध विश्वविद्यालय में लगातार कई माह से कुलपति नहीं आ रहे हैं। प्रभारी कुलपति बनाकर मगध विश्वविद्यालय कि काम चलाया जाता है। वे भी नहीं आ रहे हैं। अभाविप ने कुलपति को ढूंंढने का जिम्‍मा उठाया है। अभाविप के कार्यकर्ताओ ने टॉर्च जलाकर उन्‍हें ढूंढना शुरू कर दिया है।मगध विश्‍वविद्यालय काफी दिनों से दुसरे विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों के भरोसे चल रहा है मगध विश्विद्यालय में कुलपति, प्रतिकुलपति, कुलसचिव, परीक्षा नियंत्रक, एफ.ए और एफ.ओ सभी प्रभारी है जिससे विश्वविद्यालय में भारी पैमाने पर शैक्षणिक समस्या उत्पन्न है। मगध वि•वि• की यह विडंबना है कि दूसरे जगह के वि•वि के कुलपति को यहां की देखरेख का जिम्‍मा दे दिया गया है। अभी की बात करें तो इस विवि को संभालने का दायित्‍व पाटलिपुत्रा के कुलपति आर•के सिंह के पास है। लेकिन वे भी कई माह से यहां नहीं आ रहे हैं। इस कारण वि•वि के छात्रो का कार्य लगातार प्रभावित हो रहा है, विश्वविद्यालय में व्याप्त शैक्षणिक संकट के जिम्मेवार प्रभारी कुलपति एवं प्रभारी सभी पदाधिकारियों को ढूंढना शुरू कर दिया है हम सभी ने। आज टॉर्च जलाकर उन्‍हें ढूंढने के लिए निकले है अगर इसके बाद भी वो सब नही दिखाई देते तो आगे भी यह कार्य जारी रहेगा। हम सभी म•वि•वि• के भष्ट्राचार के आरोपी कुलपति को हटाने, गिरफ्तार करने एवं नियमित कुलपति की मांग को लेकर आंदोलन किए थे, लेकिन भ्रष्टाचारियों को बचाने का जिम्मा अपने कंधों पर उठाये राजभवन ने कोई कार्रवाई नहीं की है। जिस तरीके से मगध विश्वविद्यालय के शैक्षणिक व्यवस्था बर्बाद करने की जिद पर बिहार के राजभवन पड़ी हैं उससे यह साफ हो रहा है कि मगध विश्वविद्यालय को बंद करने की पूरी साजिश बड़े पैमाने पर रची जा रही है। आज मगध विश्वविद्यालय में व्याप्त शैक्षणिक संकट एवं भ्रष्टाचार का कोई जिम्मेवार है तो वह राजभवन है अभी तक दोषी कुलपति पर कोई कार्रवाई ना होना इसका साफ उदाहरण है। वही मगध विश्वविद्यालय कि शैक्षणिक व्यवस्था को 10 साल राजभवन द्वारा पीछे फेंक दिया गया है! राजभवन पटना में बैठकर मगध विश्वविद्यालय के छात्रों का भविष्य बर्बाद करने में लगी है 3 साल में जो कोर्स कंप्लीट होने चाहिए वह राजभवन के द्वारा नियुक्त किये गयें सभी पदाधिकारी पंचवर्षीय योजना में डालने का काम किये है। सूरज सिंह ने बताया कि कई महीने से मगध विश्वविद्यालय के प्रभारी कुलपति यहां नहीं आ रहे हैं। विश्वविद्यालय की सारी व्यवस्था चौपट हो चुकी है। विश्वविद्यालय के अधिकारी पर किसी का कोई नियंत्रण नहीं रह गया है। वे कब आते हैं, कब जाते हैं। कोई देखने वाला नहीं है। छात्रों का समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ गया है ऐसा प्रतीत हो रहा है कि मगध विश्वविद्यालय के छात्रों ने विश्वविद्यालय में अपना नामांकन ले कोई गलती किए है इसकी सचा उन्हे राजभवन और मगध विश्वविद्यालय के सभी प्रभारी पदाधिकारी दे रहे है।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जिला संयोजक प्रवीण कुमार ने कहां कि मगध वि•वि• में कई महीने से अनुपस्थित रहने वाले वीसी आर•के सिंह एवं सभी प्रभारी पदाधिकारियों को टॉर्च एवं मोबाइल फ्लैश जलाकर हरेक विभाग में ढूंढा। लेकिन वे कहीं नहीं मिले। विवि के अधिकारियों और कर्मचारियों से पूछा आपने कुलपति सर को कहीं देखा है क्‍या? परिषद कार्यकर्ता हाथों में मोबाइल फ्लैश एवं टॉर्च लेकर विश्वविद्यालय के अलग अलग सेक्शन में जाकर वीसी ढूंढो अभियान चला रहे है। प्रत्‍येक सेक्शन में जाकर हम लोग कर्मचारियों से वीसी के बारे में पूछ ताछ किये पर वो कही नही मिलें, वर्तमान समय में विश्वविद्यालय का जो अभी हाल है उसका जिम्मेवार अगर कोई है तो बिहार के राज्यपाल बिहार और सरकार। राज्यपाल ने बिहार के सभी विश्वविद्यालय में शैक्षणिक व्यवस्था को चौपट करने का काम किया है वही मगध विश्वविद्यालय के पदों पर प्रभारियों को नियुक्त कर बस फंसे हुए बिल को निकालने का काम कर रहे है वही दुर्भाग्य की बात है कि मगध विश्वविद्यालय में एक व्यक्ति को महत्वपूर्ण 3-3 पदों पर नियुक्त कर दिया गया है। अगर जल्द से जल्द कुलाधिपति मगध विश्वविद्यालय में व्याप्त शैक्षिक संकट को खत्म नहीं करते हैं तो हम चरणबद्ध आंदोलन करेंगे।

इस मौके पर मगध विश्वविद्यालय संयोजक सूरज सिंह,जिला संयोजक प्रवीण कुमार,एस•डब्लू•सी मेम्बर मंतोष सुमन,प्रदेश कार्यकारणी सदस्य सुबोध पाठक,अजित कुमार, बोधगया नगर मंत्री अमन कुमार,गया महानगर मंत्री राजीव रंजन कुमार,मानपुर नगर मंत्री सुजित कुमार,गया कॉलेज अध्यक्ष राहुल कुमार,मैक्स अवस्थी,अविनाश पांडे,लव कुमार,आदित्य कुमार,हर्ष सिंह,सुमित कुमार,अमर कुशवाहा,अजीत कुमार, आरभ,अभिजीत कुमार, मिलेन आनंद, आदि मौजूद थे।कार्यकर्ता मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *