आशीष कुमार की रिपोर्ट

-हर जगह अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा ही लेती हैं जीबीएम की छात्राएँ-प्रो अशरफ

-सुयोग्य, सक्षम तथा सशक्त महिलाओं की उद्गमस्थली रहा है जीबीएम कॉलेज-डॉ रश्मि

गया। गौतम बुद्ध महिला कॉलेज की छात्राओं ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सेंट्रल यूनिवर्सिटी अॉफ साऊथ बिहार के डिपॉर्टमेंट अॉफ डेवलपमेंट स्टडीज़ के ‘जागृति ऐन अवेकनिंग’ समारोह के अंतर्गत आयोजित रंगोली प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर चयनित होकर कॉलेज का नाम गौरवान्वित किया है। प्रधानाचार्य प्रो डॉ जावेद अशरफ के संरक्षण में तथा अंग्रेजी विभाग की असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ रश्मि प्रियदर्शनी के समन्वयन तथा निर्देशन में कॉलेज की छात्रा अमीषा भारती, आरती, रिया तथा अर्पणा के द्वारा जेंडर इक्वेलिटी विषय पर बनाई गयी भव्य रंगोली प्रथम स्थान पर तथा राखी कुमारी तथा दीपिका शर्मा द्वारा बनाई गयी रंगोली तृतीय स्थान पर चयनित हुई। छात्रा मोनिका कुमारी द्वारा तलवार के साथ किए गये “झाँसी की रानी आई”, अदिति द्वारा ‘धाकड़ है, धाकड़ है” गाने पर प्रस्तुत रोमांचक नृत्य की प्रस्तुति देख दर्शक झूम उठे। छात्रा सोनाली के द्वारा ‘ओ री चिरैया, नन्हीं सी चिड़िया, अंगना में फिर आना’ गाने पर प्रस्तुत भावपूर्ण नृत्य की सभी ने सराहना की। सीयूएसबी के विवेकानंद सभागार में रंगोली प्रतियोगिता में प्रथम तथा तृतीय स्थानों पर चयनित छात्राओं को आमंत्रित अतिथियों ने मेडेल तथा प्रमाण पत्र प्रदान कर सम्मानित किया।

प्रधानाचार्य प्रो अशरफ ने सभी प्रतिभागियों एवं विजेताओं को हार्दिक शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि जीबीएम कॉलेज की छात्राएँ हर जगह अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा ही लेती हैं। उन्होंने छात्राओं को आगे बढ़ने हेतु महाविद्यालय प्रशासन द्वारा हर संभव सहायता एवं समर्थन प्रदान करने का आश्वासन दिया। प्रधानाचार्य ने डॉ समापिका मोहापात्रा व सीएसयूबी के डिपॉर्टमेंट अॉफ डेवलपमेंट स्टडीज के सभी सदस्यों को जागृति कार्यक्रम के सफल आयोजन हेतु बधाइयाँ भी दी हैं। डॉ रश्मि ने छात्राओं की लगनशीलता तथा सक्रिय सहभागिता की तारीफ करते हुए कहा कि जीबीएम कॉलेज इन्फ्रास्ट्रक्चर की दृष्टि से भले ही छोटा हो, किंतु यहाँ की छात्राएँ प्रतिभा और कर्मशीलता में किसी भी दृष्टि से कम नहीं हैं। इतिहास साक्षी है कि यह महाविद्यालय शैक्षणिक, प्रशासनिक, राजनीतिक, सामाजिक विभिन्न क्षेत्रों में सुयोग्य, सक्षम तथा सशक्त महिलाओं की उद्गमस्थली रहा है। इसका इतिहास, वर्तमान तथा भविष्य तीनों उज्ज्वल है, बस छात्राएँ मेहनत और अनुशासन को अपनी सफलता का मूलमंत्र बनाए रखें। संगीत विभागाध्यक्ष डॉ नूतन कुमारी सहित समस्त कॉलेज परिवार ने प्रतिभागी छात्राओं को शुभकामनाएँ दी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *